मन की बात सबके साथ Man ki baat sabke saath

भाईजीकहिन Bhaijikahin

37 Posts

838 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 1057 postid : 77

अंग्रेजी की बोर्ड से हिन्दी में टाईप करें – 3, कुछ सवाल कुछ समाधान

Posted On: 11 May, 2010 टेक्नोलोजी टी टी में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

इस टेक्‍नोलॉजी ब्‍लॉग का तीसरा भाग प्रस्‍तुत करते हुए मैं प्रसन्‍न हूँ । क्‍यों ? क्‍योंकि इसे जो रिस्‍पॉन्‍स मिला है वह ब्‍लॉग के पृष्‍ठ पर प्रदर्शित टिप्‍पणियों से कहीं ज्‍यादा है । राजभाषा की सेवा में लगे अनेक साथियों ने मुझे ई-मेल अथवा अन्‍य माध्‍यमों से सूचित किया है कि उन्‍होंनें इसका लाभ उठाया है । कुछेक साथियों ने लिखा है कि उनके कार्यालय में अनेक उच्‍चाधिकारियों ने इस साफ्टवेयर का प्रयोग प्रारंभ कर दिया है तथा वे बड़ी आसानी से इसका उपयोग कर पा रहे हैं ।

 

लेकिन मुझे मलाल है तो केवल इस बात का कि यदि यही बाते इन आलेखों को पढ़कर पोस्‍ट योर कमेंट के माध्‍यम से मुझ तक पहुँचती तो मुझे कहीं ज्‍यादा खुशी मिलती । क्‍या पता उन्‍हें पढ़कर कुछ और लोग हिन्‍दी में कार्य करने को प्रेरित होते ? खैर, कुछ लोग गुप्‍त दान की तरह गुप्‍त टिप्‍पणी करना अधिक पसंद करते हैं ।

 

तथापि अनेक साथियों ने कुछेक समस्‍याएं बताई है । मैं ऐसी समस्‍याओं का उत्तर नहीं देना चाहता था जो सबके साथ नहीं बाँटी गई है । फिर ख्‍याल आया कि मैंनें पहले कोई ऐसी शर्त भी तो नही रखी थी कि मैं ई-मेल या फोन से प्राप्‍त होने वाली समस्‍याओं के जबाव नहीं दूँगा । अत: अभी जो कुछ सवाल मुझ तक पहूँचे हैं उनके उत्तर में यहां दे रहा हूँ । साथ ही यह भी स्‍पष्‍ट कर रहा हूँ कि यदि आप अपने सवाल, अपनी समस्‍याएं पोस्‍ट योर कमेंट  के माध्‍यम से रखेंगें तो न केवल मुझसे समाधान मिलेगा बल्कि हो सकता है कि जो सज्‍जन मुझसे ज्‍यादा जानते हो वे आपके प्रश्‍नों का जबाव दे दें । आपको बुरा तो लगेगा, लेकिन अब मैं किसी अन्‍य माध्‍यम से पुछे गए सवालों व समस्‍याओं का समाधान नही करूँगा ।

 

पुछे गए प्रश्‍न व समस्‍याएं और उनके समाधान

 

प्र.1- मैंनें आपके बताएं अनुसार हिन्‍दी इंडिक आईएमई इंस्‍टाल किया हैं फिर भी वर्गाकार निशान नजर आते हैं ?

 

उ.- इसके लिए आपको यह जांच करनी होगी – देखें कि क्‍या आपनें इस इंस्‍टालेशन के लिए कंट्रोल पैनल से रीजनल एंड लैंङ्गवेज ऑप्शन में जाकर लैंङ्गवेजिज टैब में सम्पलीमेंटल लैंङ्गवेज सपोर्ट के पहले विकल्प ‘इंस्टाल फाईल्स फोर काम्प्लैक्‍स स्क्रीप्ट एंड राईटटू…………….’ को चुना है तथा कम्‍प्‍यूटर को रिस्‍टार्ट किया हैं । भारतीय भाषाओं में कार्य करने के लिए आपकों इस विकल्‍प का चयन करना आवश्‍यक है ।

 

प्र.2- क्‍या मैं मंगल फोन्‍ट के अतिरिक्‍त किसी अन्‍य फोन्‍ट में कार्य नहीं कर सकता ?

 

उ.- आप किसी भी यूनिकोड आधारित देवनागरी फोन्‍ट में कार्य कर सकते हैं । तथापि एमएस आफिस में मंगल के अतिरिक्‍त केवल एरियल यूनिकोड एमएस ही दूसरा देवनागरी फोन्‍ट उपलब्‍ध है ।  

 

प्र.3- मैंनें आपके बताएं अनुसार हिन्‍दी इंडिक आईएमई इंस्‍टाल किया हैं किंतु EN के निशान पर क्लिक करने पर भी समय बतानें वाले स्‍थान के ऊपर वह पट्टी नजर नहीं आती जिसमें एच, कीबोर्ड आदि के आइकॉन बने हैं ?

 

उ.- इसके निम्‍नांकित कारण हो सकते हैं । क्‍या आपनें :-

क. एमएस वर्ड या जिस प्रोग्राम में आप कार्य करना चाहते है वहां खुलने पर उसके सफेद पृष्‍ठ वाले स्‍थान पर एक बार माउस से क्लिक किया हैं। अथवा

ख. क्‍या आपनें EN के निशान पर क्लिक करने के बाद दिख रहे ऑप्‍शन में HI हिन्‍दी पर क्लिक किया हैं । 

ध्‍यान रखें कि परिस्थिति क. की शर्त पूरी न करने पर समय बतानें वाले स्‍थान के ऊपर वह पट्टी नजर नहीं आती जिसमें ‘एच, कीबोर्ड’ आदि के आइकॉन बने हैं अथवा यदि आप HI हिन्‍दी का चयन ही नहीं करेंगें तो उक्‍त पट्टी नजर नहीं आएगी ।

 

प्र.4- मैंनें आपके बताएं अनुसार हिन्‍दी इंडिक आईएमई इंस्‍टाल किया हैं एक बार तो EN नजर आया या कुछ समय तक तो EN नजर आया लेकिन अब जब भी कम्‍प्‍युटर प्रारंभ करता हूँ तो EN नजर नहीं आता हैं, मैं क्‍या करूँ ?

 

उ.- इसके लिए सबसे पहले उस टॉस्‍क बार पर राईट क्लिक करें जहॉं EN नजर आता था । अब दिखनें वाले आप्‍शन में से टूलबार्स का चयन करें ।  Toolbar  यहां आपकों कुछ आप्‍शन नजर आएंगें । उनमें एक आप्‍शन लैंङ्गवेज बार भी होगा । उस पर क्लिक करें । यदि उसके आगे सही का निशान लगा है तो एक बार उस पर क्लिक कर उसे हटा दें तथा पुन: इस प्रक्रिया को दोहरा कर उस पर क्लिक कर सही का निशान लगा दें । तो EN का निशान नजर आने लगेगा ।

 

यदि टूलबार्स पर क्लिक करने पर लैंङ्गवेज बार का आप्‍शन नहीं दिखता हैं तो हो सकता है कि लैंङ्गवेज बार का डिस्‍पले का आप्‍शन डिस्‍एबल हो गया हो । उसे पुन: प्रारंभ करने के लिए एक बार फिर कम्प्यूटर में कंट्रोल पैनल से रीजनल एंड लैंङ्गवेज ऑप्‍शन में जाकर लैंङ्गवेजिज टैब में टेक्‍स्ट सर्विस एंड इन्पूट लैंङ्गवेज में ‘डिटेल्स’ बटन पर क्लिक करें । एक नई विंडों खुलेगी । टेक्‍स्ट सर्विस एंड इन्पूट लैंङ्गवेज की इस नई विंडो में नीचें बाएं हाथ पर दिख रहें  लैंङ्गवेज बार के बटन पर क्लिक करें । अब जो आप्‍शन दिखेंगें उसमें पहले आप्‍शन ‘शो द लैंङ्गवेज बार ऑन डेस्‍कटॉप’  के सामनें क्लिक कर दें । तो EN का निशान नजर आने लगेगा ।

 

प्र.5- मैंनें आपके लेख में लिखे भाषा इंडिया की वेबसाइट लिंक पर क्लिक किया तथा  यूआरएल http://bhashaindia.com/downloads/pages/home.aspx/Hindi_IME_setup.zip को कॉपी कर अपने ब्राउजर के एड्रेस बार में पेस्‍ट किया डाउनलोड प्रारंभ नहीं हुआ । बल्कि दोनों ही स्थितियों में मेरे ब्राउजर में भाषा इंडिया वेबसाइट का डाउनलोड पेज खुल गया । जहां हिन्‍दी से संबंधित बहुत सी फाईलें हैं । मैं कौन-सी फाईल डाउनलोड करूँ ?

 

उ.- आपकों उक्‍त पेज से विंडो 32 बिट के लिए ‘हिन्‍दी इंडिक आईएमई’ सॉफ्टवेयर की फाईल डाउनलोड करनी हैं । भाषा इंडिया ने अपने डाउनलोड पेज पर कुछ परिवर्तन किया है अत: नया यूआरएल प्रस्‍तुत हैं http://bhashaindia.com/SiteCollectionDocuments/Downloads/IME/Hindi_IME_setup.zip आप इसका प्रयोग भी कर सकते हैं । इस पर क्लिक करें अथवा इसे कॉपी कर अपने ब्राउजर के एड्रेस बार में पेस्‍ट कर दें व एंटर की दबाएं । डाउनलोड प्रारंभ हो जाएगा ।

 

प्र.6- जब मैं हिन्‍दी ट्रांसलिटरेशन कीबोर्ड का चयन कर टाईप करता हूँ तो हैल्‍प वाली पट्टी दिखाई नहीं देती है ?

 

उ.- आपको इसके लिए समय बताने वाले स्‍थान के ऊपर Clockbar उस पट्टी जिसमें ‘एच, कीबोर्ड’ आदि के आइकॉन बने हैं के अंत में लिखे अंग्रेजी के W से ठीक पहले वाले चारखानों वाले आइकॉन पर क्लिक कर ऊपर वाला ऑप्शन ‘ऑन द फ्लाई हैल्‍प ऑन’ पर क्लिक करना होगा लेकिन हैल्‍प वाली पट्टी तभी नजर आएगी जब आप अंग्रेजी की बोर्ड से हिन्‍दी टाईप प्रारंभ करने के लिए पहली ‘की’ दबाएंगें ।

 

प्र.7 क्‍या मैं विंडो विस्‍टा या विंडो सेवन में हिन्‍दी इंडिक आईएमई को इंस्‍टाल कर प्रयोग कर सकता हूँ अथवा मुझे इसके लिए कोई अलग साफ्टवेयर डाउनलोड करना होगा ?

 

उ.- आपको विंडो विस्‍टा या विंडो सेवन में यदि केवल हिन्‍दी ट्रांसलिटरेशन कीबोर्ड से टाईप करना है तो आप ‘हिन्‍दी इंडिक आईएमई’ सॉफ्टवेयर की जगह ‘हिन्‍दी इंडिक इन्‍पूट-2’ फाईल डाउनलोड करें व उसे इंस्‍टाल करें । इसके लिए यूआरएल हैं –

http://bhashaindia.com/SiteCollectionDocuments/Downloads/IME/Indic2/HindiIndicInput2_32-bit.zip

लेकिन यदि आप नौ कीबोर्ड के ऑप्‍शन वाला साफ्टवेयर चाहते हैं तो फिर विंडों एक्‍सपी के लिए बताए गए यूआरएल

http://bhashaindia.com/SiteCollectionDocuments/Downloads/IME/Hindi_IME_setup.zip का प्रयोग ही करें तथा डाउनलोड की गई फाईल पर राईट क्लिक कर रन एज एडमिनिस्‍ट्रेटर पर क्लिक करें व इंस्‍टाल करें ।

 

प्र.8- हिन्‍दी इंडिक आईएमई के प्रयोग से टाईप करने पर गुगल की बोर्ड जैसी हैल्‍प नहीं मिलती अर्थात गलत शब्‍द टाईप होने पर कुछ शब्‍द उदाहरण के रूप में सामनें नहीं आते ? क्‍या इसका कोई उपाय है?

 

उ.- जी नहीं । इस तरह की हैल्‍प का कोई उपाय नहीं हैं । लेकिन गुगल कीबोर्ड भी ऑफ लाइन इस तरह की हैल्‍प नहीं दे सकता है और ना ही आप उससे ऑफ लाईन टाईप ही कर सकते हैं ।

 

प्र.9- क्‍या मैं हिन्‍दी के अतिरिक्‍त किसी अन्‍य भारतीय भाषा में भी अंग्रेजी कीबोर्ड से ट्रांसलिटरेशन कीबोर्ड द्वारा टाईप कर सकता हूँ ?

 

उ.- जी हां आप भाषा इंडिया के डाउनलोड पृष्‍ठ पर जाकर पंजाबी, गुजराती, बांग्‍ला, उि‍ड़या, तमिल, कन्‍नड़, मलयालम, तेलगु आदि भारतीय भाषाओं में टाईप के लिए यह इंडिक साफ्टवेयर डाउनलोड कर सकते हैं व हिन्‍दी इंडिक की तरह इंस्‍टाल कर सकते हैं । इसके लिए यूआरएल हैं –

http://bhashaindia.com/SiteCollectionDocuments/Downloads .

 

प्र.10- क्‍या भाषाइंडिया आपकी बेवसाईट है, जो आप इसका प्रचार कर रहे हैं ?

उ.- जी नहीं, मैं किसी भी रूप में भाषा इंडिया से संबंधित नहीं हूँ ना ही यह मेरी बेवसाईट हैं । बस नेट सर्फ करते समय राजभाषा व राष्‍ट्रभाषा हिन्‍दी से संबंधित टूल्‍स की खोज के दौरान इस साईट का पता चला । क्‍योंकि यह साईट नि:शुल्‍क यह सुविधा देती है अत: उपयोगी जानकारी को शेयर करना मुझे उचित लगा । मेरा ध्‍येय तो बस राजभाषा व राष्‍ट्रभाषा हिन्‍दी की सेवा है ।

 

अरविन्‍द पारीक



Tags:                                                             

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (14 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

13 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

कृष्ण बोरा के द्वारा
01/07/2010

दो सप्ताह पहले जब आपने मुझे हिन्दीं के साफ्टवेयर के बारे में बताया था व आपके इस ब्लॉग का पता दिया था तभी मैंनें सोच लिया था कि आपका ब्लॉग पढ़कर में जरूर यह प्रोग्राम अपने साइबर कैफे के कम्यूटरों में डालुँगा । पिछले सप्ताह सभी कम्यूटरों में इसका इंस्टालेशन कर दिया है । तीनो लेख उपयोगी है । अब आपको हमारे किसी भी कम्यू्टर में हिन्दी डब्बों के रूप में नहीं दिखेगी । हमारे सभी युजर्स इसे पसंद कर रहे हैं । आपकी यह खोज बहुत ही अच्छी है और प्रयोग में आसान भी है । ऐसी उपयोगी जानकारी देने के लिए धन्यवाद । यह पता चला है कि आप टॉप 10 ब्लॉ‍गर में आ गए हैं । इसके लिए हमारी बधाई । यही दुआ है कि पहला पुरस्कार आपको मिले । कृष्ण बोरा

यश के द्वारा
04/06/2010

कृपया अपने प्रश्न संख्या ८ के उत्तर का अवलोकन करें. आपने लिखा है की गूगल की बोर्ड आफलाइन इस तरह की सुविधा नहीं देता है. यह सही नहीं है. मैंने गूगल हिंदी इनपुट अपने लैपटाप में इंस्टाल कर रखा है और अभी मैं इसी से कमेन्ट लिख रहा हूँ. यह बहुत अच्छी तरह से विकल्प देता है और आफलाइन भी किसी भी प्रोग्राम यहाँ तक की सर्च इंजिन में भी काम करता है. धन्यवाद.

    Arvind Pareek के द्वारा
    05/06/2010

    धन्‍यवाद यश, इस नई जानकारी के लिए । लेकिन जब मैंनें बिना इंटरनेट सुविधा वाले कम्‍प्‍यूटर में गुगल के आईएमई ट्रांसलिटरेशन साफ्टवेयर को इंस्‍टाल करना चाहा तो बिना इंटरनेट कनेक्‍शन के इसे इंस्‍टाल नहीं कर पाया । यदि इस बारे में आपको कोई जानकारी है या डाउनलोड साईट का पता है तो कृपया सबके लाभ हेतु इस जानकारी को बॉंटनें का कष्‍ट करें । अरविन्‍द पारीक

muhammad.khalid के द्वारा
02/06/2010

जनाब इस जानकारी के लिए आपका बहुत,बहुत शुक्रिया,इसी तरह अगर उर्दू में टाएप करने के लिए भी कोई सोफ्टवेअर हो तो ज़रूर बताएं मेहरबानी होगी. शुक्रिया

sunny rajan के द्वारा
19/05/2010

बहुत ज्ञान भरी जानकारी थी, इससे सब लोगो को बहुत मदद मिलेगी

    Arvind Pareek के द्वारा
    04/06/2010

    धन्‍यवाद सनी राजन जी । अरविन्‍द पारीक

आशा रानी शर्मा के द्वारा
18/05/2010

आपकी इस लेख-श्रृंखला ने भारत सरकार के कार्यालयों के बहुत पैसे बचा दिए हैं । क्‍योंकि राजभाषा विभाग ने युनिकोड आधारित फोन्‍ट का प्रयोग अनिवार्य बना दिया है । हिन्‍दी में अलग-अलग कीबोर्ड होने से सरकारी कर्मचारियों व अधिकारियों को भी बहुत कठिनाई होती थी । लेकिन आपकी इस लेख श्रृंखला को पढ़कर मैंनें अपने कार्यालय में इसे स्‍थापित किया हैं व पिछले 15 दिन से इसके प्रयोग के प्रति मैं अपने सभी साथियों को लालायित देख रही हूँ । इस कारण हिन्‍दी में पत्राचार में भी वृद्धि हो रही है । उम्‍मीद करती हूँ कि इसका उपयोग हमारे कार्यालय के लिए अवश्‍य ही लाभदायक बना रहेगा । राजभाषा विभाग, गृह मंत्रालय को प्रत्‍येक कार्यालय को आपके इस ब्‍लॉग का संदर्भ देते हुए एक परिपत्र जारी करना चाहिए । ताकि सभी लाभान्वित हो सके । बिना किसी लागत के इस साफ्टवेयर का लाभ उठा सके । सभी अनुवादकों व हिन्‍दी अधिकारियों एवं राजभाषा से जुड़े सहायक निदेशकों व निदेशकों आदि को भी इसे पढ़ना चाहिए । इतने बढि़या साफ्टवेयर से परिचय करवाने के लिए आपका बहुत-बहुत धन्‍यवाद । क्‍या कोई हिन्‍दी के फॉन्‍ट को बदलने वाला साफ्टवेयर भी है । यदि उसकी जानकारी दे सकें तो मैं आपकी आभारी रहूँगी । आशा रानी शर्मा

    ARVIND PAREEK के द्वारा
    19/05/2010

    सुश्री आशा रानी शर्मा जी, आपको मेरा ब्‍लॉग पसंद आया व आपने उसका प्रयोग अपने कार्यालय में किया उसके लिए धन्‍यवाद । राजभाषा विभाग, गृह मंत्रालय प्रत्‍येक कार्यालय को इस ब्‍लॉग का संदर्भ दे या न दे यदि हम आपस मे एक दूसरे को यह जानकारी बॉंट लें अर्थात अपने परिचितों को बताएं व वे परिचित आगे अपने परिचितों को बताएं तो अपने आप ही यह जानकारी सभी तक पहूँच जाएगी । हिन्‍दी के फोन्‍ट को हिन्‍दी के ही अन्‍य फोन्‍ट में परिवर्तित करने वाला फोन्‍ट परिवर्तक उपलब्‍ध हैं । इसकी जानकारी व स्‍थापना व प्रयोग के बारे में शीघ्र ही एक ब्‍लॉग प्रस्‍तुत करूँगा । आपसे अनुरोध है कि जागरण के अन्‍य रीडर्स के ब्‍लॉग भी पढ़ें व प्रतिक्रिया दें । आपका पुन: धन्‍यवाद । अरविन्‍द पारीक

R K KHURANA के द्वारा
11/05/2010

प्रिय अरविन्द जी, हिंदी के बोर्ड भाग ३ पढ़कर बहुत लाभ हुआ ! जैसे की मैंने आपको पहले भी बताया था की मैंने आपके कहे अनुसार डाउन लोंड कर लिया था तथा मैं इसका भरपूर प्रयोग कर रहा हूँ ! अभी मेरा नया लेख “भगवान शंकर – महाशक्ति” इसका सबूत है ! वैसे मुझे आजतक तो कोइ दिक्कत नहीं आई ! इसके लिए मैं आपका पहले भी तहे दिल से धन्यवाद कर चुका हूँ और आज फिर आपका धन्यवाद् कर रहा हूँ ! इसका उदहारण मेरा ब्लॉग “Kadli Ke Paat” है जिसमें मेरे सभी लेख इसी के द्वारा टाइप किये गए हैं ! आपका आज का लेख मैंने संभाल लिया है तथा कभी दिक्कत आने पर इसकी सहायता लूँगा ! इतना उपयोगी लेख देने के लिए आपका फिर abhari हूँ ! Ram Krishna Khurana

    ARVIND PAREEK के द्वारा
    13/05/2010

    प्रिय श्री खुराना जी, आपकी प्रतिक्रिया प्राप्‍त होने पर मैं गद्-गद् हो गया । आखिर कोई तो है जो मेरा ब्‍लॉग रूचि से पढ़ता है । आपका बहुत-बहुत धन्‍यवाद । आपका लेख “भगवान शंकर – महाशक्ति”  अवश्‍य पढूँगा । अरविन्‍द पारीक

sah के द्वारा
11/05/2010

बहुत बढिया जानकारी,

    ARVIND PAREEK के द्वारा
    13/05/2010

    आपकी प्रतिक्रिया के लिए धन्‍यवाद ।


topic of the week



अन्य ब्लॉग

  • No Posts Found

latest from jagran